repo rate

RBI MPC बैठक: RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज भारतीय रिज़र्व बैंक की तीन दिवसीय मौद्रिक नीति समिति के निर्णयों की घोषणा की। आज की क्रेडिट पॉलिसी में देश के केंद्रीय बैंक आरबीआई ने लगातार तीसरी बार रेपो रेट में बढ़ोतरी का ऐलान किया है।

आरबीआई ने रेपो रेट में 50 बेसिस प्वाइंट यानी 0.5 फीसदी की बढ़ोतरी की घोषणा की है। फिलहाल देश में रेपो रेट 4.9 फीसदी है जो अब बढ़कर 5.4 फीसदी हो गया है. इसके साथ ही पिछले चार महीने में रेपो रेट में 1.40 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। अब इसका असर होम लोन से लेकर पर्सनल लोन तक लोगों की ईएमआई पर देखने को मिलेगा।

लगातार क्रेडिट पॉलिसी में ब्याज दरों में बढ़ोतरी

इससे पहले मई में आरबीआई ने रेपो रेट में 0.40 फीसदी और जून में 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी की थी। इसके बाद रेपो रेट फिलहाल 4.90 फीसदी है। अगर आज इसकी दर में 0.35 प्रतिशत या 0.50 प्रतिशत की वृद्धि की जाती है तो यह 5 प्रतिशत को पार कर जाएगी।

इस वजह से रेपो रेट बढ़ाना पड़ा

सरकार और रिजर्व बैंक के प्रयासों के बावजूद महंगाई पर काबू पा लिया गया है, लेकिन दूसरी तरफ यूएस सेंट्रल बैंक फेडरल रिजर्व समेत कई देशों के केंद्रीय बैंक आक्रामक तरीके से ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं। फेडरल रिजर्व अमेरिका में ऐतिहासिक मुद्रास्फीति के कारण ब्याज दरों में वृद्धि जारी रखता है। बैंक ऑफ इंग्लैंड ने भी इसी हफ्ते 27 साल के रिकॉर्ड में ब्याज दर में सबसे बड़ी बढ़ोतरी (0.50 फीसदी) की घोषणा की। इससे लगभग सभी विश्लेषकों का मानना था कि रेपो रेट बढ़ेगा।

महंगाई से फिलहाल कोई राहत नहीं

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि दुनिया भर में महंगाई रिकॉर्ड स्तर पर है। भारत मुद्रास्फीति की उच्च दर का सामना कर रहा है। जून लगातार छठा महीना था जब खुदरा मुद्रास्फीति रिजर्व बैंक की ऊपरी सीमा से अधिक थी। भू-राजनीतिक विकास में तेजी से बदलाव, वैश्विक खाद्य कीमतों में नरमी, यूक्रेन से गेहूं के निर्यात को फिर से शुरू करना, घरेलू बाजार में खाद्य तेल की कीमतों में नरमी और अच्छे मानसून की वजह से खरीफ फसल की बुवाई में वृद्धि.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *