PM MODI

पीएम मोदी ने संसद टीवी को लॉन्च किया. इसके साथ ही लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी का विलय हो गया, दोनो को मिलाकर ही संसद टीवी बना है. इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारी संसद में जब सत्र होता है तब अलग अलग मुद्दो पर चर्चा होती है तो युवाओं के लिए काफी कुछ जानने और सीखने के लिए होता है. साथ ही हमारे माननीय संसदो को जब पता होता है कि पूरा देश हमें देख रहा है उस वक्त उनको बेहतर आचरण की प्रेरणा मिलती है.

 संसद टीवी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रवि कपूर ने कहा कि संसद टीवी के गठन की प्रकिया ढाई साल पहले शुरू हुई थी. सूर्यप्रकाश समिति की सिफारिश के आधार पर संसद टीवी ने आकार लिया.

पीएम मोदी ने कहा कि तेजी से बदलते समय में मीडिया और टीवी चैनल्स की भूमिका भी तेजी से बदल रही है. 21वीं सदी तो विशेष रूप से संचार और संवाद के जरिए क्रांति ला रही है. ऐसे में ये स्वाभाविक हो जाता है कि हमारी संसद से जुड़े चैनल भी इन आधुनिक व्यवस्थाओं के हिसाब से खुद को ट्रान्स्फॉर्म करें.

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के लिए लोकतन्त्र केवल एक व्यवस्था नहीं है, एक विचार है. भारत में लोकतंत्र, सिर्फ संवैधानिक स्ट्रक्चर ही नहीं है, बल्कि वो एक स्पिरिट है. भारत में लोकतंत्र, सिर्फ संविधाओं की धाराओं का संग्रह ही नहीं है, ये तो हमारी जीवन धारा है.

इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा, “हमारी संसद में जब सत्र होता है, अलग अलग विषयों पर बहस होती है तो युवाओं के लिए कितना कुछ जानने सीखने के लिए होता है. हमारे माननीय सदस्यों को भी जब पता होता है कि देश हमें देख रहा है तो उन्हें भी संसद के भीतर बेहतर आचरण की, बेहतर बहस की प्रेरणा मिलती है.”

 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.