Does corona infection decrease as soon as the vaccine arrives

भारत को कोरोना वायरस से लड़ाई में जल्द ही एक और हथियार मिलने वाला है. जानकारी के मुताबिक देश में तैयार हो रही कोरोना की रूसी वैक्सीन स्पूतनिक लाइट सितंबर तक भारत को मिल सकती है. सिंगल डोज वाली इस वैक्सीन की कीमत 750 रुपए होगी. कंपनी ने इसके इमरजेंसी यूज के लिए भी आवेदन दे दिया है. बता दें कि भारत में पहले से ही रूसी वैक्सीन स्पूतनिक वी का इस्तेमाल हो रहा है.

ट्रायल में 80% तक कामयाब रही है स्‍पूतनिक लाइट

‘स्‍पूतनिक लाइट’ को भी गामलेया इंस्टिट्यूट ने डिवेलप किया है. रिसर्च को RDIF ने पूरा सपोर्ट किया. मई में इस वैक्‍सीन को रूस में आपातकालीन इस्‍तेमाल की मंजूरी दी गई थी. एक्‍सपर्टस इस वैक्‍सीन को ज्‍यादा ‘मुफीद’ मानते हैं. तीसरी लहर के खतरे के बीच जल्‍द से जल्‍द वैक्‍सीनेशन में सिंगल डोज वाली वैक्‍सीन बड़े काम आ सकती है. RDIF के एक बयान के अनुसार, रूस में हुए ट्रायल में स्‍पूतनिक लाइट ने 80% एफेकसी दिखाई.

स्‍पूतनिक वी की सप्‍लाई भी होगी बहाल


अभी तक, दो डोज वाली स्‍पूतनिक वी वैक्‍सीन का इस्‍तेमाल हो रहा है. हैदराबाद स्थित डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज के ऊपर इस वैक्‍सीन को भारत में लगाने का जिम्‍मा है. सूत्रों के मुताबिक, स्‍पूतनिक वी की किल्‍लत इस महीने के आखिर तक खत्‍म हो सकती है, स्पूतनिक वी के फुल रोलआउट को होल्‍ड पर डाल दिया गया था, इसी वजह से इसमें देरी हो रही है.

जुलाई में, पनेसिया बायोटेक ने ऐलान किया था कि उसे स्‍पूतनिक वी वैक्‍सीन बनाने का लाइसेंस मिल गया है. हिमाचल प्रदेश के बद्दी स्थित प्‍लांट में बने वैक्‍सीन के बैच क्‍वालिटी चेंकिंग से पार पा चुके हैं. सेंट्रल ड्रग लैबोरेटरी ने भी वैक्‍सीन को ओके कर दिया है, पनेसिया हर साल 10 करोड़ डोज बनाएगी जिसे डॉ रेड्डीज लगाएगी.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.