imran

पाकिस्तान अपने ‘सदाबहार’ दोस्त चीन को खुश करने के लिए हर वो कदम उठाने को तैयार रहता है, चाहे उसके लिए उसे वैश्विक बिरादरी से नाराजगी ही क्यों न झेलनी पड़े. तो वहीं दूसरी तरफ वह चीन में खुलेआम उइगर मुसलमानों पर अत्याचार और मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामले में चुप्पी साधकर अपने दोस्त को नाराज नहीं करना चाहता है.

निक्केई एशिया के मुताबिक, अब पाकिस्तान ने पूर्व आर्मी जनरल असीम सलीम बाजवा को हटाते हुए बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट् का चीफ एनर्जी एक्सपर्ट को बनाया है, जिसे बीजिंग का बेहद करीबी समझा जाता है. 3 अगस्त को पाकिस्तान ने खालिद मनसूर को 50 बिलियन डॉलर की लागत वाले सैपैक यानी चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के शीर्ष पद की जिम्मेदारी दी है.

निक्केई एशिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक, खालिद मनसूर अपने 32 साल के करियर में एनर्जी से संबंधित कई कंपनियों जैसे- सिंध इनर्गो कोल माइनिंग और हब पावर कंपनी लिमिटेड में शीर्ष पदों पर रह चुके हैं, जो कंपनियां बाद में सीपीईसी प्रोजेक्टस में लगी हुई हैं.

पाकिस्तान के योजना मंत्री असद उमर ने ट्विटर पर कहा- मैं खालिद मनसूर को सीपीईसी मामलों के SAPM के रूप में स्वागत करता हूं. चीनी कंपनियों के साथ काम करने के लिए उनका विशाल कॉर्पोरेट अनुभव और सबसे बड़ी सीपीईसी परियोजनाओं का नेतृत्व करने में उनकी प्रत्यक्ष भागीदारी उन्हें सीपीईसी के अगले चरण का नेतृत्व करने के लिए एक आदर्श व्यक्ति बनाती है.

सीपीईसी के तहत ऊर्जा सेक्टर समेत कई प्रोजेक्ट्स इस वक्त कोरोना महामारी और अन्य कई कारणों के चलते काफी देरी से चल रहे हैं. करोड़ डॉलर की लागत से तैयार होने वाले सीपीईसी पिछले तीन वर्षों के दौरान अपने प्रोजेक्ट्स को पूरा नहीं कर पाया है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.