Corona Virus Updates

देशभर में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर अभी भी जारी है. हाला कि नए मामलों की संख्या में कमी देखी जा रही हो, लेकिन अभी भी देश में हर दिन कई लोगों की मौत हो रही है. दूसरी लहर के बाद अब देश के तमाम राज्य सतर्क हो गए हैं. दिल्ली, गुजरात और केरल समेत कई राज्यों ने संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए कमर कस ली है. जानिए इस राज्यों ने क्या-क्या तैयारियां की हैं.

दिल्ली

राजधानी दिल्ली में कुल 27 पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों को शरु कर दिया गया है. केंद्र सरकार द्वारा पहले ही छह संयंत्र शुरू किए जा चुके हैं और सात जल्द ही चालू होने जा रहे हैं. जुलाई तक दिल्ली में 17 और ऑक्सीजन संयंत्र शुरू होंगे. दिल्ली सरकार तीसरी लहर के मामले में कोरोना से निपटने के लिए ऑक्सीजन टैंकर भी खरीद रही है.

दिल्ली सरकार ने तीसरी लहर के एक्शन प्लान को ध्यान में रखते हुए दो अलग-अलग समितियों का चहन किया है. पहली कमेटी जिसका गठन किया गया है, इसमें 8 सदस्य शामिल है. तीसरी लहर से निपटने के लिए 13 अधिकारियों की एक और समिति बनाई गई है. ये कमेटी दिल्ली में हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाने और तीसरी लहर से निपटने के लिए एक्शन प्लान तैयार करेगी.

गुजरात

तो वही गुजरात में मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने कोरोना की किसी भी स्थिति से निपटने के लिए एक कार्य योजना की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि अक्टूबर-नवंबर के आसपास राज्य में तीसरी लहर आने की संभावना है. राज्य में ऑक्सीजन बेड और आईसीयू बेड को क्रमशः 61,000 और 15,000 से बढ़ाकर 1,10,000 और 30,000 करने की जाहेरात की गई है. साथ ही योजना में बाल-सुलभ वार्डों के निर्माण के साथ सरकारी अस्पतालों में बाल चिकित्सा बिस्तरों को 2,000 से 4,000 तक दोगुना करना शामिल है. सरकार चिकित्सा सुविधाओं में सभी रिक्तियों को भरने और परीक्षण को बढ़ावा देने की योजना भी बना रही है.

केरल

केरल में टीकाकरण कवरेज बढ़ाने और बाल चिकित्सा स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को मजबूत करने पर सरकार ध्यान केंद्रित कर रही है. मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा, “बच्चों के इलाज और छुट्टी के संबंध में दिशानिर्देश पहले ही तैयार किए जा चुके हैं.” एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने कहा कि तीसरी लहर से पहले ज्यादा ये ज्यादा लोगों के लिए कवरेज सुनिश्चित करने के लिए प्रतिदिन दी जाने वाली टीकों की खुराक की संख्या को बढ़ाकर 2-2.5 लाख किया जाएगा. स्वास्थ्य विभाग ने बच्चों के इलाज की सुविधा बढ़ाने का निर्णय लिया है.

तेलंगाना

राज्य सरकार ने राज्य के सभी बाल चिकित्सा अस्पतालों में बुनियादी ढांचे में सुधार करना शुरू कर दिया है और हैदराबाद में महिलाओं और बच्चों के लिए अस्पतालों में अतिरिक्त सुविधाएं स्थापित कर रही है. साथ ही सरकारी अस्पतालों में सभी मौजूदा बिस्तरों को ऑक्सीजन बिस्तरों में बदलने का भी फैसला किया गया है. राज्य में 4000 ऑक्सीजन/आईसीयू बेड विशेष रूप से बाल चिकित्सा मामलों के लिए उपलब्ध होंगे.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.