gujarat university

कोरोना महामारी के बीच भी गुजरात में पढ़ने के इच्छुक विदेशी छात्रों की संख्या में इजाफा हो रहा है, आने वाले शैक्षणिक वर्ष में 2300 से अधिक छात्रों ने गुजरात विश्वविद्यालय में अध्ययन के लिए आवेदन किया है.

गुजरात विश्वविद्यालय के चांसलर हिमांशु पंड्या ने कहा कि जो विदेशी छात्र देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ना चाहते हैं, उन्हें भारतीय सांस्कृतिक अनुसंधान परिषद द्वारा प्रवेश दिया जाता है, वैश्विक कोरोना महामारी के बीच भी इस बार गुजरात विश्वविद्यालय में चल रहे विभिन्न पाठ्यक्रमों में 2300 से अधिक छात्रों ने प्रवेश पाने में रुचि दिखाई है.

अधिकांश विदेशी छात्र गुजरात विश्वविद्यालय में प्रबंधन, भाषा, साहित्य, कला जैसे विषयों में अध्ययन करना चाहते हैं। पिछले दो वर्षों में, गुजरात विश्वविद्यालय ने एयरोनॉटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मशीन लर्निंग, डेटा साइंस, ह्यूमन जेनेटिक्स, बायो इंफॉर्मेटिक्स सहित विभिन्न पाठ्यक्रम शुरू किए हैं, जिनकी न केवल भारत में बल्कि पूरी दुनिया में मांग है.

जिसके चलते गुजरात विश्वविद्यालय में 2300 से अधिक विदेशी छात्रों ने अध्ययन के लिए आवेदन किया है. अगर बीते दिनों की बात करें तो वर्ष 2018-19 में 35 छात्र, वर्ष 2019-20 में 51 छात्र जबकि वर्ष 2020-21 में विश्वविद्यालय परिसर में 151 विदेशी छात्र पढ़ रहे हैं. विशेष रूप से अफगानिस्तान, बांग्लादेश और अफ्रीकी देशों के छात्र यहां बड़ी संख्या में पढ़ने के लिए आए हैं.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.