Gujarat government will survey

गुजरात में कई खेत चक्रवात से बह गए हैं. खेतों में खड़ी फसल को भारी नुकसान हुआ है. जिसमें सौराष्ट्र के गांवों को काफी नुकसान हुआ है. फिर एक सर्वेक्षण कर और किसानों द्वारा तत्काल सहायता की मांग की गई. फिर मुख्यमंत्री ने तत्काल प्रभाव से गुजरात के प्रभावित कृषि क्षेत्रों का सर्वेक्षण कर सहायता राशि का भुगतान करने का आदेश दिया है.

गुजरात के महेसूल मंत्री ने क्या कहा ?

इसे लेकर महेसूल मंत्री कौशिक पटेल ने कहा कि नुकसान का आकलन करने के लिए सर्वे के आदेश दे दिए गए हैं. किसानों को एसडीआरएफ के नियमानुसार सहायता राशि का भुगतान किया जाएगा, मुख्यमंत्री ने तत्काल प्रभाव से सर्वे कराकर सहायता राशि देने के आदेश दिए हैं. तूफान से राज्य के कई इलाकों में नुकसान हुआ है.संबंधित जिला अधिकारियों को तत्काल सर्वे कार्य कराने के निर्देश दिए गए हैं. प्रभावित इलाकों में हालात सामान्य होते ही राहत कार्य जल्द ही शुरू हो जाएगा.

किसानों के औजार और गोदाम भी क्षतिग्रस्त हो गए

भारतीय किसान संघ ने गुजरात सरकार से किसानों को जल्द से जल्द सहायता देने की मांग की है, भारतीय किसान संघ के अनुसार, मूंगफली, मग, तिल, बाजरा और बागवानी जैसी गर्मियों की फसलों में किसानों को व्यापक नुकसान हुआ है, किसानों के यांत्रिक उपकरणों और गोदामों को हुए नुकसान के लिए भी सहायता दी जाती है, इसके लिए मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर मदद मांगी थी.

दक्षिण गुजरात में किसानों को 150 से 200 करोड़ का नुकसान

वहीं दूसरी ओर दक्षिण गुजरात के किसानों को भी करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है. सभी फसलों को 500 से 600 करोड़ रुपये का अनुमानित नुकसान हुआ है, इसलिए दक्षिण गुजरात के किसानों को जल्द से जल्द सर्वे कर राशि का भुगतान करने को कहा गया है. वहीं सरकार से समर्थन मूल्य पर फसल खरीदने को कहा गया है. दक्षिण गुजरात में धान की फसल को करोड़ों रुपये का नुकसान अनुमानित नुकसान 150-200 करोड़ रुपये बताया जा रहा है.

उपलेटा में बिखरी केले की फसल

राजकोट जिले के उपलेटा में केले की खेती को तूफान से काफी नुकसान हुआ है.उपलेटा में केले की फसल को भारी नुकसान हुआ है,केले की तैयार फसल का 70 फीसदी हिस्सा उखड़ चुका है. इसलिए गाय पालन में लगे किसानों को सरकार की ओर से मदद की मांग की जा रही है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.