uttrakhand

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने से आई बाढ़ से काफी जान माल का नुकसान हुआ. धौली गंगा, ऋषि गंगा और अलकनंदा नदियों में हुए हिमस्खलन और बाढ़ से अनेकों घर बर्बाद हो गये थे. इस हादसे में कई लोगों की मौत हो गई और 135 से ज्यादा लोग लापता हो गए. उत्तराखंड में हुए इस घटना को लेकर अब नए दावे सामने आए हैं.

इनकम टैक्स विभाग की छापेमारी को लेकर तापसी पन्नू का ब्वॉयफ्रेंड परेशान, इस मंत्री से मागी मदद

इंटरनेशनल माउंटेन फॉर इंटीग्रेटेड माउंटेन डेवलपमेंट ( ICIMOD) के मत अनुसार यह घटना भारी रॉकस्लाइड के कारण हुई थी. मतलब की भारी पत्थरों का खिसकना इस घटना की वजह बनी. रिपोर्ट की माने तो , रोंटी चोटी के ठीक नीचे बर्फ पिघलने से रॉकस्लाइड हुआ.

रोक स्लाईड से बहाव में आई तेजी
आईसीआईएमओडी के निष्कर्षों में कहा है कि बर्फ के साथ मिश्रित 22 मिलियन क्यूबिक मीटर पत्थर गिरे. इससे पानी का बहाव काफी तेजी से बढ़ा और अत्यधिक बाढ़ की स्थिति बनी. इस संगठन के आठ सदस्य हैं जिनमें चीन, नेपाल भी शामिल हैं.

एंटीलिया हाउस अपडेट-हिरेन मनसुख ने लिखा था मुख्यमंत्री को पत्र,पुलिस और मीडिया पर लगाया था परेशान करने का आरोप

कनेक्टिविटी बहाल करने के लिए तैयार किया गया पुल
उत्तराखंड के चमोली जिले के 13 गांवों से कनेक्टिविटी बहाल करने के लिए ऋषिगंगा के ऊपर एक वैकल्पिक बेली पुल बनाया गया है .7 फरवरी को बाढ़ में पुल बह जाने के बाद इन गांवों का संपर्क कट गया था.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.