RBI

देश में महंगाई बढ़ने की आशंका से अब आरबीआई भी चिंता में दिख रहा है. पेट्रोल-डीजल की कीमतों में जिस तेजी से इजाफा हो रहा है और इनकी कीमतें रिकार्ड लेवल पर पहुंच चुकी हैं, इससे आरबीआई को महंगाई के मोर्चे पर चिंता सताने लगी है. अगर पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर काबू नहीं हुआ तो यह अर्थव्यवस्था में आ रही रफ्तार के असर को कम कर सकती है.

‘राज्य सरकारों को मिल कर फैसला लेना होगा’
आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि पेट्रोल-डीजल महंगा होने से मैन्यूफैक्चरिंग की लागत बढ़ सकती है. इसका असर महंगाई पर पड़ सकता है. उन्होंने साफ कहा कि पेट्रोल और डीजल पर टैक्स की कटौती पर केंद्र और राज्य सरकारों को मिल कर फैसला लेना होगा. उन्होंने कहा कि दरअसल इस वक्त राज्य और केंद्र दोनों की कमाई पर असर पड़ा है. कमाई घटने की वजह से न तो राज्य टैक्स कटौती की हालत में हैं और न केंद्र में. ऐसे में पेट्रोल-डीजल की महंगाई घटने की उम्मीद नहीं की जा सकती.

ट्वीटर से भी आप कमा सकते है पैसे, आने वाला है नया फीचर

पेट्रोल 100 रुपये के पार
कच्चे तेल की कीमतों में इजाफा हुआ है. इससे तेल महंगा हुआ है. लेकिन केंद्र और राज्य दोनों की ओर से इन पर लगाई जाने वाली टैक्स की दरें काफी ऊंची है. यही वजह है कि देश के कई शहरों में पेट्रोल की कीमतें 100 रुपये प्रति लीटर को भी पार कर गई हैं. डीजल की कीमत भी 90 रुपये प्रति लीटर को पार कर गई हैं. आरबीआई का लक्ष्य महंगाई को चार से पांच फीसदी के दायरे में रखने का है. 

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.