Mahashivratri

फाल्गुन महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि मनाई जाती है जो इस साल 11 मार्च 2021 गुरुवार को मनाई जाएगी. वास्तव में चतुर्दशी तिथि 11 मार्च को 2:39 से प्रारंभ होगी जो 12 मार्च को दोपहर 3:02 तक रहेगी. तो आइए जानते है कि महाशिवरात्रि कब और कैसे मनाई जाती है ? कैसे व्रत किया जाना चाहिए ? इस बार कौन सा समय पूजा अर्चना के लिए अच्छा रहेगा ?

इस बार महाशिवरात्रि का लाभ ज्यादा मिल पाएगा क्योंकि इस बार कई विशेष योग बन रहे हैं, जिसमें शिव योग भी बन रहा है. इस कारण पूजा अर्चना के विशेष लाभ होंगे. शिव योग में शिवरात्रि के मनाने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है और सभी कष्ट दूर होते हैं.

पूजा अर्चना के लिए निशिता काल विशेष तौर पर जाना जाता है जो 12 मार्च को 12:06 से 12:55 तक रहेगा.

वैसे तो भोलेनाथ मन से जल चढ़ाने पर भी प्रसन्न हो जाते हैं लेकिन महाशिवरात्रि के दिन विशेष पूजा अर्चना में आप कच्चा दूध,दही, शहद, धतूरे और भांग ऐसी कई चीजें चढ़ा सकते हैं.

पूजा अर्चना के समय ओम नमः शिवाय अर्थात पंचाक्षरी का जप करना चाहिए. शिव पंचाक्षरी इस तरह से होती है, जिससे ओम नमः शिवाय शब्द बना है जो शंकराचार्य जी ने दिया था.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.