gold and silver after the budget

अप्रैल में शादियों की बहार आने के साथ ही मार्च महीने से ही सोने-चांदी की कीमतों में फिर से बढ़ोतरी होने का अनुमान है. लेकिन बात फरवरी की करें तो सिर्फ 20 दिनों में सोने की कीमतों में जबर्दस्त गिरावट देखने को मिली है. शादियों के सीजन से पहले सिर्फ 20 दिनों में सोने की कीमतों में 3,292 रुपये प्रति 10 ग्राम तक की गिरावट दर्ज की गई है. वहीं, चांदी की कीमतों की बात करें तो इस समय पिछले साल के भाव की तुलना में चांदी 7,594 रुपये प्रति किलो तक सस्ती हुई है.

बुलियन की दौड़ के परिणाम

पहली बात तो ये बता दें कि बुलियन मार्केट में सोने और चांदी के दाम वायदा कारोबार पर आधारित होते हैं. असल बाजार में सोने-चांदी की कीमतें एकदम बराबर नहीं रहती, बल्कि आगे-पीछे रहती हैं. अब बताते हैं कि में सोने ने पिछले एक सप्ताह में कैसा प्रदर्शन किया. दरअसल, सोना पिछले 20 दिनों में अगर 3292 रुपये प्रति 10 ग्राम तक गिरा है, तो पिछले एक सप्ताह में ये गिरावट 1285 रुपये प्रति 10 ग्राम तक रही. वहीं, चांदी के भाव पिछले सप्ताह की तुलना में मामूली तौर पर ज्यादा हुई है. चांदी ने 37 रुपये की बढ़ोतरी दर्ज की है. 

ग्लोबल मार्केट पर निर्भर करता है दाम

भारत में सोने की मांग हमेशा बनी रहती है, लेकिन इसकी कीमत वैश्विक बाजार पर निर्भर करती है. एक तरफ साल 2020 में पूरी दुनिया कोरोना महामारी से लड़ रही थी, तो दूसरी तरफ सोना लगातार रिकॉर्ड बना रहा था. साल 2020 में सोने की कीमतों में 30 फीसदी तक बढ़ोतरी हुई थी. वैश्विक स्तर पर करीब 25 फीसदी बढ़ोतरी हुई थी. दरअसल, कोरोना महामारी की वजह से निवेशकों ने शेयर बाजार की तुलना में बुलियन में ज्यादा निवेश किया था.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.