china

गलवान में खूनी हिंसा के करीब आठ महीने बाद चीन ने आधिकारिक तौर पर यह माना कि उसके सैनिक भी मारे गए थे. अब तक वह इस सच्चाई को दुनिया से छिपाता रहा था. लेकिन, वह उल्टा इस हिंसा के लिए वीडियो जारी करते हुए भारत को ही कसूरवार ठहरा दिया है. चीन की सरकारी मीडिया की तरफ से जारी किए गए इस वीडियो के जरिए वह यह दिखाना चाहता है कि भारत ने गलवान नदी में अस्थाई तौर पर पुल बनाने की कोशिश की थी, जिसकी वजह से ही 15-16 जून को खूनी झड़प हुई थी.

चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की तरफ से भारतीय सेना के ऊपर ही एलएसी पार करने का उल्टा आरोप लगाया गया है. चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता सीनियर कर्नल रेन गुओक्यांग ने भारत पर सच्चाई को तोड़-मरोड़कर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बरगलाने का आरोप लगाया है. इसके साथ ही, चीन की तरफ से गलवान हिंसा को लेकर वहां के सरकार भोंपू अखबार ग्लोबल टाइम्स पर एक वीडियो जारी किया गया है.

ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, चीनी रक्षा मंत्रालय क प्रवक्ता रेन ने शुक्रवार को कहा, “हमें यह अवश्य ध्यान रखना चाहिए कि गलवान हिंसा के लिए भारत जिम्मेदार है क्योंकि उसने पिछले साल जून में अवैध तरीके से एलएसी को पार किया था, हिंसा की शुरुआत की थी और चीनी सैनिकों पर हमले किए थे, जिसकी वजह से दोनों तरह ये हताहत हुआ.” यह पहला मौका है जब चीन ने यह स्वीकार किया है कि गलवान में उसके सैन्यकर्मी मारे गए थे.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.