amit shah

उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से आए सैलाब ने बड़ा नुकसान किया है. इस प्राकृतिक आपदा ने जान और माल दोनों को ही गहरा आघात पहुंचाया है.

अमित शाह ने बताया, ”बाढ़ से 13.2 मेगावाट की जल विद्युत परियोजन बह गई. इस अचानक आई बाढ़ ने तपोवन में NTPC की 520 मेगावाट की जल विद्युत परियोजना को भी नुकसान पहुंचाया है. उत्तराखंड सरकार ने बताया है कि बाढ़ से निचले क्षेत्र में अब कोई खतरा नहीं है. साथ ही साथ जलस्तर में भी कमी आ रही है. केंद्रीय और और राज्य की एजेंसियां हालात पर नजर रखे हुए हैं.”

24 घंटे रखी जा रही है निगरानी

अमित शाह ने कहा, ”केंद्र सरकार द्वारा स्थिति की 24 घंटे उत्तम स्तर पर निगरानी की जा रही है. प्रधानमंत्री जी स्वयं स्थिति पर गहरी निगाह रखें हैं. गृह मंत्रालय के दोनों कंट्रोल रूम के द्वारा नजर रखी जा रही है. राज्य को हर संभव सहायता दी जा रही है. मैं सदन को केंद्र सरकार की ओर से आश्वस्त करना चाहता हूं कि राहत और बचाव के सभी संभव उपाय राज्य सरकार के साथ समन्वय के साथ किये जा रहे हैं और जो भी आवश्यक कदम उठाने जरूरी हैं, वो उठाये जा रहे हैं.’

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.