Source - ANI

भारत हमेशा से हर तरह के मुश्किल हालत में अपना पड़ोसी धर्म निभाता आया है. इसी कड़ी में भारत ने बुधवार देर रात मुंबई के छत्रपति महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से देश में तैयार कोविड-19 वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ के डेढ़ लाख टीकों की खेप भूटान के थिंपू शहर के लिए रवाना की.

Source _ ANI

भारत सरकार की ओर से तोहफे के तौर पर कोविशील्ड वैक्सीन पाने वाला भूटान पहला देश है. ये वैक्सीन सीरम इंस्टीटूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) में तैयार की गयी है.

क्या कहा प्रधानमंत्री मोदी ने ?

प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि विश्व भर में स्वास्थ्य के श्रेत्र में अपना योगदान देकर हमें गर्व महसूस होता है. उन्होंने कहा, “दुनिया भर में स्वास्थ्य के क्षेत्र की जरूरतों को पूरा करने में योगदान देकर हम अपने आपको गौरवान्वित महसूस करते है. कई देशों को भारत में तैयार कोविड वैक्सीन की खेप भेजने की शुरुआत कल से कर दी जाएगी. ये आपूर्ति आगे भी जारी रहेगी.”

कोरोना वायरस (कोविड-19) का कहर पूरी दुनिया में देखने को मिला है. वहीं कई विकसित देश कोरोना वैक्सीन की डोज उन देशों को भी मुहैया करवाने वाले हैं जो गरीब देशों की सूची में आते हैं या जिन्हें कोरोना वैक्सीन की ज्यादा दरकार है. ऐसे में भारत इस मामले में बड़ी भूमिका निभाने वाला है. भारत भी अपने पड़ोसी देशों समेत अन्य कई देशों को कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध करवाने वाला है. इन पड़ोसी देशों में नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, म्यांमार, मालदीव और श्रीलंका शामिल है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.