Vista Dome

गुजरात में नर्मदा ज़िले (Narmada District) में स्थित केवड़िया को भारत के पर्यटन नक्शे (Gujarat Tourism) पर उभारने के मकसद से यहां पर्यटकों को लाने के लिए रेलवे ने कई जगहों से केवड़िया के लिए आठ नई ट्रेनें शुरू कीं, जिन्हें बीते रविवार को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने हरी झंडी दिखाई. इन आठ ट्रेनों में से एक पर सबकी नज़र टिकी, जो अहमदाबाद से केवड़िया (Ahmedabad-Kevadia Jan Shatabdi Express) के बीच चल रही जनशताब्दी ट्रेन है. इस ट्रेन में विस्टाडोम कोच सबका ध्यान तो खींच ही रहा है, अपने आप में यह अनूठा भी है. आइए आपको इस कोच से जुड़े आकर्षक पहलुओं के बारे में बताते हैं.

How is the Vista Dome in the train going to the Statue of Unity

वीस्टा डोम की क्या है खास बात

सबसे पहले तो इस कोच में यात्रियों के लिए बड़ा ऑब्ज़र्वेशन लाउंज है, जहां खड़े होकर वो केवड़िया तक के मनोहारी रूट को निहार सकते हैं और चाहें तो फोटोग्राफी भी कर सकते हैं.

नाश्ते की टेबल फ्लाइट की तरह फोल्ड की जा सकने वाली हैं और सीट नंबर ब्रेल में भी लिखे गए हैं.

इस कोच में यात्रियों के लिए जो रेक्लाइनर सीटें हैं, वो 180 डिगग्री घूम सकती हैं यानी दाएं और बाएं दोनों तरफ की खिड़कियों से आप नज़ारे देख सकते हैं.

इंटरटेनमेंट के लिए डिजिटल स्क्रीन और स्पीकरों की व्यवस्था भी इस कोच में है. साथ ही, जीपीएस और वाई फाई की सुविधा भी है.

मिनी पैंट्री के साथ कॉफी मेकर वॉटर कूलर, ओवन, फ्रीज के अलावा सामान रखने के लिए कई लेवलों का कंपार्टमेंट भी इस कोच को खास बनाता है.
इस कोच में 44 सीटों के साथ ही दोनों सिरों पर ऑटोमैटिक स्लाइडिंग दरवाज़े और कांच का रूफटॉप है, जो इसकी सुंदरता में चार चांद लगाता है.

How is the Vista Dome in the train going to the Statue of Unity

कैसे तैयार हुआ यह कोच?

भारतीय रेलवे ने इस विस्टाडोम कोच को स्टेट-ऑफ-द-आर्ट तरीके से तैयार करवाया है. न सिर्फ यात्रियों के आराम बल्कि मनोरंजन और यात्रा के रोमांच को बढ़ाने के हिसाब से इसे तैयार करवाया गया. जनशताब्दी एक्सप्रेस में लगे इस कोच को चेन्नई स्थित कोच फैक्ट्री में बनाया गया.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.