bird flu

देश में बर्ड फ्लू ने अब तेजी से पैर पसारना शुरू कर दिया है. अब देश के दस राज्यों में बर्ड फ्लू का संक्रमण यानी एवियन इन्फ्लुएंजा फैल गया है. कल दिल्ली और महाराष्ट्र के बाद उत्तराखंड में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई. केंद्र सरकार ने फ्लू की रोकथाम के लिए तमाम कदम उठाने के बीच राज्यों से मुर्गा मंडियों को बंद नहीं करने या कुक्कुट उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित नहीं करने को भी कहा, क्योंकि मानव में बर्ड फ्लू संचरण की कोई वैज्ञानिक रिपोर्ट सामने नहीं आई है.

इन दस राज्यों में फैला संक्रमण

अबतक केरल, राजस्थान, मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, उत्तराखंड और महाराष्ट्र में इस वायरस संक्रमण की पुष्टि की गई है.

गुजरात

गुजरात के सूरत और वडोदरा जिलों में भी मृत कौओं के नमूनों की जांच में उनके एवियन इंफ्लुएंजा से संक्रमित पाए जाने के बाद दोनों जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई है. पशुधन विभाग, सूरत की उप निदेशक नीलम दवे ने कहा कि छह जनवरी को सूरत के बरदोली तालुका में दो जगहों से चार कौओं के नमूने लेकर उन्हें भोपाल स्थित प्रयोगशाला भेजा गया था. अधिकारी ने कहा, ‘उनके बर्ड फ्लू से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है.’

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के आईसीएआर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सेक्युरिटी एनीमल डिजीज के अनुसार मुम्बई में दो कौवे बर्ड फ्लू से मर गये. उसकी रिपोर्ट के अनुसार ठाणे के तीन बगुले और एक तोता एच5एन1 एवियन इंफ्लुएंजा से संक्रमित थे. भोपाल के इसी संस्थान के मुताबिक इसके अलावा, परभणी के एक मुर्गे और दो बगुले और बीड़ एवं दापोली के कौवे एच5एन1 एंवियन इंफ्लुएंजा से संक्रमित थे.

महाराष्ट्र

वहीं, महाराष्ट्र के परभणी, मुम्बई, बीड़ और दापोली में विभिन्न पक्षियों की मौत भोपाल की प्रयोगशाला की जांच रिपोर्ट के आधार पर एविएन इंफ्लूएंजा से होने की पुष्टि हुई है. सुबह में परभनी के जिलाधिकारी दीपक मुगलीकर ने बताया था कि मुरुम्बा गांव के पॉल्ट्री फार्म में पिछले कुछ दिनों में करीब 900 मुर्गियों की मौत बर्ड फ्लू के कारण होने की पुष्टि हुई है और जिला प्रशासन ने गांव में करीब 8,000 पक्षियों को मारने का फैसला किया है.

उत्तर प्रदेश

इस बीच, उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर और बलिया जिलों में विभिन्न प्रजातियों के पक्षियों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत की ताजा घटनाएं सामने आई हैं. राज्य में इस फ्लू की रोकथाम के लिए सतर्कता बढ़ा दी गई है. कानपुर चिड़ियाघर में मरे कुछ पक्षियों में बर्ड फ्लू पाए जाने के बाद लखनऊ प्राणी उद्यान प्रशासन ने अपने यहां पक्षियों के बाड़े को दर्शकों के लिए बंद कर दिया है और पक्षियों के आदान-प्रदान कार्यक्रम को भी अस्थाई तौर पर निलंबित कर दिया है.

उत्तराखंड

उत्तराखंड के देहरादून और ऋषिकेश में कई कौओं समेत करीब 200 पक्षी मृत मिले हैं. देहरादून के अलग-अलग हिस्सों में 165 पक्षी मृत मिले हैं, जिनमें से अकेले भंडारी बाग क्षेत्र में 121 कौए मृत पाए गए हैं. वन प्रभागीय अधिकारी राजीव धीमान ने बताया कि देहरादून में मृत मिले पक्षियों में से 162 कौए, दो कबूतर और एक अन्य पक्षी है.

राजधानी दिल्ली

दिल्ली सरकार ने संजय झील में बत्तखों के बर्ड फ्लू से संक्रमित पाए जाने के बाद शहर के बाहर से प्रसंस्कृत (प्रोसेस्ड) और पैक किया हुआ चिकन लाकर बेचने पर सोमवार को पाबंदी लगा दी. उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि अब तक केवल संजय झील की बत्तखों में ही बर्ड फ्लू संक्रमण पाया गया है. उन्होंने कहा कि लोग घबराएं नहीं, चिंता की कोई बात नहीं है. संजय झील के पास बत्तखों को मारने की कार्रवाई शुरू की गई है.

हरियाणा

दिल्ली के पड़ोसी राज्य हरियाणा में वायरस संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के चलते संक्रमित पक्षियों को मारने की कार्रवाई शुरू की गई है.

हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश सरकार ने बर्ड फ्लू के डर के बीच अन्य राज्यों से आ रहे सभी पोल्ट्री (कुक्कुट से संबंधित) उत्पादों पर एक सप्ताह के लिए रोक लगा दी है. एक बयान में यहां मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि पोल्ट्री उत्पादों के जरिए अन्य राज्यों से संक्रमण का स्रोत न आ जाए, इसे सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबंध लगाया गया है. अब तक 4,357 प्रवासी जल पक्षियों की मौत हो चुकी है.

पीएम मोदी ने राज्यों को सावधान रहने को कहा

वहीं, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के विभिन्न हिस्सों में बर्ड फ्लू की मौजूदा स्थिति के मद्देनजर सभी राज्यों से इसका प्रसार रोकने के लिए सावधान रहने को कहा है. साथ ही उन्होंने स्थानीय प्रशासन से जलाशयों के आसपास, चिड़ियाघरों और मुर्गी पालन केंद्रों पर निरंतर निगरानी सुनिश्चित करने पर जोर दिया. उन्होंने कहा, ‘‘वन विभाग, स्वास्थ्य विभाग, पशु पालन विभाग के बीच जितना अधिक समन्वय होगा, उतनी ही तेजी से हम बर्ड फ्लू के नियंत्रित करने में सफल होंगे.’’

अधिकारियों ने कुक्कुट उत्पादों के उपभोक्ताओं का डर दूर करते हुए कहा कि अच्छी तरह से पके हुए चिकन और अच्छी तरह उबले और पकाए हुए अंडों का उपयोग करने से संक्रमण का खतरा नहीं है, क्योंकि वायरस ज्यादा तापमान में जीवित नहीं रह सकता.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.