vijay rupani

गांधीनगर: गुजरात की रूपाणी सरकार ने कोरोना के आरटी-पीसीआर टेस्ट का खर्चा कम कर दिया है. उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने आज एक संवाददाता सम्मेलन में घोषणा की कि एक निजी लैब में आरटी-पीसीआरटी परीक्षण की कीमत अब 400 रुपये होगी, इससे पहले एक निजी लैब में जांच के लिए 700 रुपये लिए जाते थे. मरीज के घर जाकर जांच का खर्चा भी कम किया गया है. मरीज के घर पर आरटी-पीसीआर टेस्ट के लिए 550 रुपये लिए जाएंगे. जबकि सरकारी अस्पतालों में मुफ्त में कोरोना की जांच की जाती है.

उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने एक बयान में कहा कि इस समय पूरे राज्य में कोरोना की स्थिति अच्छी है. मामले लगातार घट रहे हैं. कई क्षेत्रों में रियायतें दी जा रही हैं. टीकाकरण का काम भी जोरों पर है. जिन लोगों ने दूसरी खुराक नहीं ली है, उनके लिए अगले रविवार को एक विशेष शिविर आयोजित किया जाएगा. दूसरी खुराक का टीकाकरण इस रविवार को भी जारी रहेगा.

एयरपोर्ट पर अब तक 4000 हो चुके हैं जिन्हें 1300 से घटाकर 2700 चार्ज किया जा सकता है. एचआरटीसी की एक हजार की दर थी जिसे घटाकर 500 से 2500 कर दिया जाएगा. हमने राज्य में सीटी स्कैन मशीनों की बढ़ती मांग को देखते हुए वेव 3 की योजना बनाई है.

जिला स्तरीय अस्पतालों के लिए नई 17 सीटी स्कैन मशीनें खरीदी जाएंगी। राज्य के मेडिकल कॉलेजों और जिला अस्पतालों में सीटी स्कैन मशीन लगाने के लिए 82.50 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की जाएगी. सरकार ने सोला गांधीनगर गोत्री 3 मेडिकल कॉलेज में एमआरआई मशीन खरीदने के लिए मजदूरी दी है. राज्य सरकार ने विभिन्न अस्पताल मशीनों को खरीदने के लिए 112 करोड़ रुपये का भुगतान किया है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.