MEERABAI CHANU

नई दिल्ली: मीराबाई चानू रजत पदक: टोक्यो में खेले जा रहे ओलंपिक खेलों में भारत ने अच्छी शुरुआत की है. भारत के लिए मीराबाई चानू ने स्नैच में 87 किलो वजन उठाया. क्लीन एंड जर्क में मीराबाई चानू ने 115 किलो वजन उठाकर भारत को रजत पदक दिलाया.मीराबाई चानू ने ओलंपिक खेलों के इतिहास में भारोत्तोलन में भारत को दूसरा पदक दिलाया है. वे वेटलेफटिंग में रजत पदक जीतने वाली भारत की पहली महिला हैं.

मीराबाई चानू के इतिहास रचने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे फोन पर बात की और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की. पीएम मोदी ने मीराबाई से बात की और उनके टोक्यो में रजत पदक जीतने की कामना की, पीएम मोदी ने मीराबाई चानू के उज्जवल भविष्य की कामना भी की है.

इस बीच, भारतीय ओलंपिक संघ ने भी टोक्यो में पदक विजेता एथलीट के कोच के लिए नकद पुरस्कार की घोषणा की है,स्वर्ण पदक विजेता कोच को 12.5 लाख रुपये, रजत पदक विजेता कोच को 10 लाख रुपये और कांस्य पदक विजेता कोच को 7.5 लाख रुपये मिलेंगे.

मणिपुर की राजधानी इंफाल की रहने वाली मीराबाई चानू का जन्म 8 अगस्त 1994 को इंफाल में हुआ था. 26 साल की मीराबाई की बचपन से ही तीरंदाजी में रुचि रही है और वह इसमें अपना करियर बनाना चाहती थीं। लेकिन आठवीं कक्षा के बाद उन्हें भारोत्तोलन में दिलचस्पी हो गई. बाद वाले ने भारोत्तोलन को आगे बढ़ाने का भी फैसला किया. दरअसल, इंपल्स वेटलिफ्टर कुंजारानी चानू से प्रेरित थी और उसने वेटलिफ्टिंग को आगे बढ़ाने का फैसला किया.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.