Antibodies against the virus

देश में कोरोना महामारी की स्थिति को लेकर भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने मंगलवार को बड़ी जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सीरो सर्वे का चौथा चरण संपन्न हो चुका है. इन चारों सर्वे से पता चला है कि देश की 40 करोड़ आबादी को अब भी कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा है, जबकि दो-तिहाई लोगों में इस वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी पाई गई है.

भार्गव ने कहा कि चौथा सीरो सर्वे 21 राज्यों के 70 जिलों में कराया गया, इनमें 6-17 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को भी शामिल किया गया था. इस दौरान हर जिले के 10 गांवों या वार्डों से 40 लोगों के सैम्पल लिए गए. हर जिले से 26 साल तक की आयु वाले 400 लोग इस सर्वे में शामिल हुए थे. वहीं, सर्वे में शामिल हर जिले और उप-जिले से 100 स्वास्थ्यकर्मियों का सैम्पल लिया गया.भार्गव ने कहा कि हमने 7252 हेल्थकेयर वर्कर्स पर भी अध्ययन किया, इनमें से 10  फीसदी ने वैक्सीन नहीं लगवाई थी, उनमें ओवरऑल सीरोप्रिविलेंस 85.2 फीसदी पाया गया.

सीरोप्रिविलेंस पर दी जानकारी

इस सर्वे में पता चला कि संपूर्ण जनसंख्या में सीरोप्रिविलेंस 67.6 फीसदी है. इनमें से 6-9 वर्ष आयु वर्ग के लोगों में, यह 57.2 फीसदी, 10-17 वर्षों में यह 61.6 फीसदी, 18-44 वर्षों में यह 66.7 फीसदी और 45-60 वर्ष के आयु वर्ग में 77.6 फीसदी था.

जानिए क्या है सीरो सर्वे

इस सर्वे से यह पता लगाया गया कि कितनी आबादी कोरोना से संक्रमित हुई है.कह सकते हैं कि कितने फीसदी लोगों में कोरोना के प्रति हर्ड इम्युनिटी विकसित हुई है. सीरो सर्वे में किसी क्षेत्र में रहने वाले कई लोगों के खून के सीरम की जांच की जाती है, लोगों के शरीर में कोरोना वायरस से लड़ने वाले एंटीबॉडी की मौजूदगी के साथ ही यह पता चल जाता है कि कौन सा शख्स इस वायरस से संक्रमित था और फिलहाल ठीक हो चुका है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.