NARMADA

बनासकांठा जिले के सीमा क्षेत्र से गुजरने वाली नर्मदा नहर अब मौत की नहर बनती जा रही है. अक्सर लोग नहर में गिर जाते हैं और अकथनीय कारणों से आत्महत्या कर लेते हैं. तभी आज एक महिला अपने चार बच्चों के साथ नहर में कूद गई, जिसमें दो बच्चों व मां की मौत से हो गई है.

मां ने अपने चार बच्चों के साथ नर्मदा की मुख्य नहर में छलांग लगा दी

बनासकांठा जिले के सीमा क्षेत्र से गुजरने वाली नहर किसानों के लिए वरदान बन गई है. यह धन्य नहर यहां के लोगों के लिए सुसाइड प्वाइंट बन गई है, छोटानेसाड़ा गांव की एक महिला ने आज थरड़ से गुजरने वाली मुख्य नहर में चार बच्चों सहित आत्महत्या का प्रयास किया. नर्मदा की मुख्य नहर में मां और उसके चार बच्चों को लेकर आसपास के इलाके के साथ ही स्थानीय तैराकों को भी ले जाया गया.

तैराकों ने दो बच्चों को बचाया

स्थानीय तैराकों द्वारा तत्काल घंटों तक बचाव अभियान चलाए जाने के बाद आबाद में दो बच्चों को बचा लिया गया, जबकि मां और दो बच्चे डूब गए. पूरे बचाव अभियान को तैराक सुल्तान मायरे ने अंजाम दिया, जिन्होंने नर्मदा नहर में आत्महत्या करने वालों के साथ-साथ कई स्थानीय लोगों को भी बचाया, जिसमें दो बच्चों को बचा लिया गया, जबकि मां और अन्य बच्चों की मौत हो गई. पुलिस ने उसके शव को पीएम कार्यालय भेज दिया है और आगे की जांच कर रही है.

आत्महत्या की वजह का खुलासा नहीं, जांच जारी

अभी तक पता नहीं चल सका है कि महिला ने खुद और अपने बच्चियों के साथ ऐसा क्यों किया. अधिकारी ने कहा कि पुलिस यह कठोर कदम उठाने की वजहों का पता लगाने की कोशिश कर रही है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.