Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot became Corona positive

अशोक गहलोत सरकार ने राजस्‍थान में एक बड़ा निर्णय लिया है. अब गैर तकनीकी (Non techinical) पदों पर भर्ती के लिए अलग-अलग परीक्षा की जगह पर एक ही समान पात्रता परीक्षा (CET) देनी होगी. इस संबंध में कार्मिक विभाग ने आदेश भी जारी कर दिया है. इस संबंध में बेरोजगार संगठन लंबे समय से सरकार से इसकी मांग कर रहे थे. अब समान पात्रता परीक्षा का आयोजन आरएसएसबी की ओर से किया जाएगा. आदेश के अनुसार यह परीक्षा एक चरणीय बहुविकल्पीय प्रश्नपत्र पर आधारित होगी. परीक्षा में अर्जित अंकों की वैधता अवधि 3 वर्ष तक रहेगी. इस परीक्षा में बैठने के लिए अवसरों की कोई सीमा नहीं होगी. आयु संबंधी और अन्य पात्रता के आधार पर कोई भी अभ्यर्थी भाग ले सकता है.

क्या होंगी नई गाइडलाइंस

  • 20 तरह की भर्तियों के लिए होगी एक ही परीक्षा, इसके आधार पर सभी विभागों में भर्ती कर दी जाएगी,
  • टेस्ट का नाम कॉमन इलेजिबिलिटी टेस्ट यानी CET होगा.
  • यह टेस्ट ग्रेजुएट और 12वीं पास के लिए अलग-अलग भर्तियों के रास्ते खोलेगा.
  • समान पात्रता’ परीक्षा का आयोजन आरएसएसबी की ओर से किया जाएगा.
  • परीक्षा का आयोजन हर साल किया जाएगा.

क्या होंगे फायदे

  • CET में शामिल अंकों को सार्वजनिक किया जाएगा.
  • परीक्षा की वैधता तीन साल रहेगी.
  • अंकों के आधार पर नौकरी मिलेगी.
  • परीक्षा में बैठने के लिए किसी तरह की आयु सीमा नहीं रहेगी.

इस तरह होगी परीक्षा

ऑब्जेक्टिव प्रश्नपत्र के आधार पर होने वाली इस परीक्षा में एक ही चरण होगा. समान पात्रता परीक्षा के लिए राजस्थान प्रशासनिक सेवा के एक अधिकारी को समन्वयक बनाया जाएगा.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.