black fungus

कोरोना के बाद अब देश ‘म्यूकर माइकोसिस’ यानी ब्लैक फंगस नाम की बीमारी से जूज रहा है. जानकारों ने चेतावनी दी है कि ब्लैक फंगस उन लोगों को भी हो सकता है जिनको कभी कोरोना नहीं हुआ है. जिन्हैं इम्यूनिटी कमजोर, शुगर, गुर्दे या दिल की बीमारी है उन्को ज्यादा सतर्क रहने की जरुरत है.

नीति आयोग (स्वास्थ्य) के सदस्य वीके पॉल ने कहा, “यह एक संक्रमण है जो कोविड से पहले भी मौजूद था. ब्लैक फंगस के बारे में मेडिकल छात्रों को जो सिखाया जाता है वह यह है कि यह डायबिटीस से पीड़ित लोगों को संक्रमित करता है. अनियंत्रित मधुमेह और कुछ अन्य महत्वपूर्ण बीमारी के संयोजन से ब्लैक फंगस हो सकता है.”

बीमारी की गंभीरता के बारे में बताते हुए डॉ पॉल ने कहा कि ‘ब्लड प्रेशर का स्तर 700-800 तक पहुंच जाता है. इस स्थिति को कीटोएसिडोसिस कहा जाता है. ब्लैक फंगस का हमला, बच्चों या वृद्ध लोगों में होना आम है. निमोनिया जैसी कोई अन्य बीमारी खतरा बढ़ा देती है. अब कोविड भी है जिसकी वजह से इसका प्रभाव बढ़ गया है. लेकिन कोविड के बिना भी लोगों को ब्लैक फंगस हो सकता है अगर अन्य कोई बीमारी है.’ वहीं एम्स के डॉ निखिल टंडन का कहना है कि स्वस्थ लोगों को ब्लैक फंगस के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है. जिन लोगों में इम्युनिटी कमजोर होती है, उन्हें ही ज्यादा जोखिम है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.