800 employees of Gujarat ST Corporation infected

गुजरात में कोरोना की स्थिति जस की तस है. राज्य में शहर से लेकर गांव तक कोरोना ने कहर बरसा रखा है. इस स्थिति से निपटने के लिए राज्य सरकार कई प्रयास कर रही है. गुजरात एसटी विभाग के 800 कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. जिसमें ज्यादातर ड्राइवर और कंडक्टर संक्रमित हैं. इन 800 में से अब तक 150 कर्मचारियों की कोरोना से मौत हो चुकी है.आज एसटी महामंडल ने इस कोरोना से मरने वाले कर्मचारियों को श्रद्धांजलि दी. एसटी महामंडल के सदस्यों ने बैनर लेकर सरकार से कई मांगें कीं.

एसटी कर्मचारियों के परिवारों को मुआवजे की मांग

महामारी के दौरान कुछ रूटों पर एसटी सेवाएं जारी रहीं. लॉकडाउन के दौरान भी इस सेवा को बनाए रखा गया ताकि राज्य में लोगों को एक शहर से दूसरे शहर में जाने और दूसरे राज्य में प्रवासियों को जाने में कोई परेशानी न हो. इस बीच, कोरोना दुर्घटना के बीच ड्राइवर और कंडक्टर ड्यूटी पर हैं. इसलिए उन्हें उचित मुआवजा मिलना चाहिए.एसटी निगम के कर्मचारियों ने भी सरकार से कहा कि कर्मचारियों को कोरोना वारियर की उपाधि दी जाए. क्योंकि वे भी कोरोना काल में जान जोखिम में डालकर ड्यूटी पर रहे हैं और उस दौरान वे संक्रमित हुए थे.

प्रदेश में 1200 एसटी बस यात्राएं शुरू

ताऊ-ते तूफान का असर पूरे गुजरात में लगातार 3 दिनों तक महसूस किया गया.जिसके चलते गुजरात राज्य परिवहन निगम (जीएसआरटीसी) ने राज्य में 12500 यात्राएं रद्द कर दीं. हालांकि, अब जबकि स्थिति सामान्य है, राज्य में 1200 ट्रिप शुरू कर दिए गए हैं.आज से करीब 1200 ट्रिप शुरू हो चुके हैं. बाकी 500 ट्रिप अगली स्थिति को देखते हुए शुरू की जाएंगी.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.