akshay tritiya

पंचाग अनुसार वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की तृतिया तिथि यानि कि 14 मई शक्रवार को है.मान्यता है कि इस दिन मां लक्ष्मी की विशेष पूजा करने से जीवन में धन संपदा की कमी नहीं रहती है और सुख- समृद्धि और संपत्ति बनी रहती है. इस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है. इस बार वैशाख मास की अक्षय तृतीया पर कई शुभ योग भी बन रहे हैं जो अक्षय तृतीया को खास बना रहे हैं.

ज्योतिषो के अनुसार मई वर्ष 2021 में अक्षय तृतीया की तिथि 14 मई को सुबह 5 बजकर 38 मिनट से अगले दिन यानि 15 मई 2021 को सुबह 8 बजे तक रहेगी. अक्षय तृतीया की तिथि पर सर्वार्थ सिद्धि योग और मानस योग का संयोग हो रहा है, जो इस दिन के महत्व में वृद्धि करते हैं. दूसरी महत्व की बात ये है कि रोहिणी नक्षत्र और मृगशिरा नक्षत्र अक्षय ततृीया की तिथि में ही रहेंगे. इस स्थिति को भी बेहद शुभ माना जा रहा है. अक्षय तृतीया पर स्वयं सिद्धि मुहूर्त का निर्माण होने से शुभ कार्य और मंगल कार्य किए जा सकते हैं.

वृष राशि में चार ग्रहों की युति

अक्षय तृतीया पर वृष राशि में चार ग्रहों की युति बन रही है. इस दिन वृष राशि में राहु, के साथ, बुध, शुक्र और चंद्रमा विराजमान रहेंगे. बुध और शुक्र से राहु की मित्रता है. जबकि चंद्रमा से राहु की शत्रुता है. वृष राशि में 1 मई को बुध और 4 मई का शुक्र ग्रह का गोचर हुआ था.

अक्षय तृतीया शुभ मुहूर्त

14 मई शुक्रवार को अक्षय तृतीया की तिथि पर पूजा का मुहूर्त सुबह 05 बजकर 38 मिनट से 12 बजकर 18 मिनट तक बना हुआ है. इस दिन परशुराम जयंती भी है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.