PPT Kit

अहमदाबाद में कोरोना का कहर अब काबू में नहीं है. हजारों संक्रमित लोग मारे गए हैं, फिर प्रशासन और मरीज के रिश्तेदारों की गंभीर लापरवाही भी सामने आइ है, शहर में, शबवाहिनी के कर्मचारी दिन-रात शवदाह के लिए आते हैं.और मृतक मरीज के रिश्तेदार भी पीपीई किट पहने अंतिम संस्कार के लिए स्मशान जा रहे हैं और कुछ बाहर खड़े रहेते है.

पीपीई किट को तब स्मशान के बाहर पडा देखा जाता है.कुछ एसा ही वाक्या फिर से देखने को मिला, अहमदाबाद में कोरोना मरीज के अंतिम संस्कार के बाद एक पीपीई किट को सड़क पर फेंक दिया गया है.यह गंभीर लापरवाही कोरोना के संक्रमण को बढ़ाती है तो कौन जिम्मेदार है? क्या स्मशान के अंदर पीपीई किट निकाल की कोई व्यवस्था नहीं की गई है?अगर व्यवस्था है तो फिर इतनी गंभीर लापरवाही क्यों…

शहर में कई बार देखा गया है कि पीपीई किट स्मशान के बहार फेंक दी जाती है. जिससे कोरोना का संक्रमण बढ़ जाता है. डॉक्टर भी लोगों को ऐसी जगहों से दूर रहने की सलाह देते हैं. अगर सिस्टम द्वारा इस तरह की लापरवाही दिखाई जाती है, तो कितने लोग कोरोना के शिकार हो सकते हैं, जिन्हें सिस्टम को गंभीरता से लेना चाहिए.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.