mukhtar ansari

बाहुबली डॉन और यूपी के पांच भार विधायक रह चुके मुख्तार अंसारी का नया ठिकाना बांदा जेल की बैरक नंबर 15 हो गया है. बांदा जेल काला पानी की सजा से कम नहीं है. इसी जेल में बड-बडे डॉन, माफिया, चंबल के डाकु समैत सजा काट चुके है, चंबल और पाठा के जंगलों के तानाशाह रहे इन लोगों पर सैकड़ों आपराधिक मामले दर्ज हैं. 

कोरोना : आठ अप्रैल को पीएम मोदी सभी राज्यों के मुख्यमंत्रीयों से करेंगे समीक्षा बैठक

बांदा उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड का वह इलाका है, जहां आम लोगों के लिए भी सुविधाओं की मुश्किल है. ऐसे में बांदा जेल और जेल में बंद जरूरत से दो गुना ज्यादा कैदी, जरा सोचिए जेल का मंजर क्या होगा. मुख्तार को बांदा जेल लाने से पहले आईजी, डीएम आनंद कुमार सिंह और एसपी डॉ. एसएस मीणा ने पुलिस फोर्स के के साथ जेल परिसर सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया.

2017 में मुख्तार अंसारी को बांदा जेल लाया गया था, तब भी उसे 15 नंबर बैरक में रखा गया था. जानकारों का मानना है बांदा जेल की ये सबसे सुरक्षित बैरक है. जेल की क्षमता 600 है, जबकि इस समय जेल में 1200 से ज़्यादा कैदी है.

By Newzzar

Leave a Reply

Your email address will not be published.